हथियारों के साथ B S F का भगोड़ा जवान गिरफ्तार हुआ

बिहार एसटीएफ ने दो हथियार तस्करों को अरवल में जहानाबाद मोड़ के पास से गिरफ्तार किया इनके नाम जयपुकार राय और आनंद पांडे है जय पुकार राय भोजपुर जिले के शाहपुर थाने के बहोरनपुर गांव का रहने वाला है जबकि आनंद पांडे रोहतास जिले के सूर्यपूरा थाना क्षेत्र के दुबरहीया गांव का रहने वाला है गुरुवार की सुबह जब दोनों झारखंड नंबर की सफेद रंग की होंडा अमेज कार से रांची से आरा आ रहे थे तो अरवल ने एसटीएफ जवानों ने घेराबंदी करके इन्हें गिरफ्तार कर लिया तलाशी के दौरान इनके पास से पॉइंट 315 की दो राइफल 7.65 का एक पिस्टल और विभिन्न तरह के 407 कारतूस बरामद किए शुरुआती जांच में यह जानकारी मिली की जय पुकार राय B S F का भगोड़ा जवान है जो करीब 2 साल से बिना किसी सूचना से फरार हैं वह त्रिपुरा की सीमा पर तैनात था उसी दौरान वह अपनी ड्यूटी से अचानक गायब हो गया और भागकर बिहार आ गया यहां आकर उसने अवैध हथियारों की तस्करी शुरू कर दी उन्होंने एक गैंग भी बना रखा है इसी क्रम में वह हथियारों के जखीरे को लेकर रांची से आ रहा था और इसकी डिलीवरी आरा के किसी अपराधी को करनी थी यह अपराधी कौन है और जय पुकार के गैंग में अन्य कौन-कौन लोग किस किस स्थान पर मौजूद है इन तमाम सवालों के जवाब तलाशने के लिए उनसे पूछताछ चल रहे हैं बात की काफी संभावना व्यक्त की जा रही है की आरा के जिस अपराधी को इसकी डिलीवरी करनी थी वह बालों माफिया गैंग से जुड़ा हो सकता है जय पुकार की निशानदेही पर बाद में इसके एक अन्य साथी सुभाष प्रधान को बिहटा के पास शिव शक्ति नगर स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया गया घर की तलाशी के दौरान उसके पास से 12 बोर की एक बंदूक और 6 कारतूस बरामद की गई है एसटीएफ कि अब तक की जांच में यह बात सामने आई है कि जय पुकार राय का गैंग हथियारों की तस्करी के मुख्य रूप में शामिल है अब तक उसने कई स्थानों और लोगों को अवैध हथियार की सप्लाई की है किन-किन लोगों को कौन से हथियार इसे बेचना है इसकी पूरी जानकारी ली जा रही है हैं

जबकि अब तक की जांच में इसका किसी नक्सली के साथ कोई कनेक्शन नहीं मिला है और ना ही नक्सलियों के साथ हथियार सप्लाई जैसी कोई बात सामने आई है फिर भी इस पर पहलू पर भी जांच चल रही है इस धंधे में जय पुकार राय को अपनी B S F की ट्रेनिंग का काफी लाभ मिलता था वह हथियारों की क्वालिटी और इसकी टेस्टिंग आसानी से कर लेता था इसके बाद उसकी कीमत समेत अन्य चीजों को तय करता था इसके बाद इसे अच्छी कीमत पर बेचता था वहीं अवैध हथियारों को झारखंड और दूसरे राज से लेकर आता था फिलहाल इससे जुड़ी तमाम बातों की विस्तार से जांच चल रही है इसके बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top